Acceptable

TRUE STORY WITH MD. DANISH ANSARI

Advertisements

बड़े दिनो के बाद

पता नहीं क्यूँ मैं उनसे आँखें नहीं मिला पाया  आज वो मुझे देखते रहे मैं उनसे नज़रे चूरा लाया

My First Crush & Last – Last Part

वो तो एक राज़ है अंसारी तुम उसे चाहे जैसा समझ लो बस यही मेरी और उसकी इतनी सी कहानी है तुम उस एक मुस्कुराहट का जो चाहो मतलब निकाल सकते हो जैसा तुम्हारा दिल चाहे या जैसा तुम्हारा दिमाग कहे बस उसे

My First Crush & Last

जब मैंने उसे पहली बार देखा तो वह स्टेज पर खड़ी थी और मैं स्टेज के परदे को पकडे हुए किनारे पर खड़ा था हमारे स्कूल में वार्षिक उत्सव मनाया जा रहा था जिसमे वो भी भाग ली थी एक डांस में वो बहुत घबराई हुई थी