ज़िन्दगी के रंग……

जीवन के इंद्रधनुषी सफर में हजारो रंग नज़र आते है, परायों को अपना कहनेवाले अच्छों को बुरा कहने वाले कहीँ ना कहीँ मिल जाते है रोज़ सफेद -काले और सतरंगी जिंदगी नज़र आती है जिंदगी रोज़ नये रंग दिखाती है। Source: जिंदगी के रंग (कविता – 5) _________________________________________________________________________________ ये जीवन कहने को तो चार दीन … पढ़ना जारी रखें ज़िन्दगी के रंग……

तेरी याद 2……

तेरी बाँहों में आकर हमने खुद को सौप दिया तेरी सांसों को पाकर हमने खुद को गर्म कर लिया दुनिया में हर मोड़ पर खड़े है क़ातिल खंजर लेकर तुझपे ऐतबार करके हमने खुद को महफूज़ कर लिया इस कदर हमने तुम पर अपना वजूद लिख दिया साथ पाकर तेरा हमने खुद को मशहूर कर … पढ़ना जारी रखें तेरी याद 2……

तेरी याद……

ख्यालो का क्या है आते है चले जाते है, इलाज तो यादों का होना चाहिए कोई ईलाज नही उनकी यादों का जब जी चाहे मुझ पर हावी हो जाते है जो तन्हाई में होता हूँ मैं कभी जो उनकी याद आये तो हम मुस्कुराते है सबको आंसू तो दिखा नही सकते अपने झूटी ही सही … पढ़ना जारी रखें तेरी याद……

हाले दिल ३……

मुझे दिए हुए हर दर्द का हिसाब तुम सब को देना होगा अपनी हर साजिश का इक़रार तुम सब को करना होगा कैसे बचो के मेरे रब की बारगाह में तुम सब लोग तुम्हे अपनी हर गुनाह का इक़रार वहा करना होगा किस हक़ से तुमने मेरी मुहब्बत को झूठा बताया होगा किस नज़रिये ने … पढ़ना जारी रखें हाले दिल ३……