Jasne Eid Miladun Nabi

images (1)

लोग अक्सर यह पुछते है की नबी तो मुसलमानो के लिए थे तो तुम सब हम सबके नबी क्यों कहते हो ?

first-kalima
यह इसलिये दोस्तों की हजरत मोहम्मद सिर्फ मुसलमानो के लिए नहीं है वो पूरी कायनात के लिए है उनका काम था सिर्फ अल्लाह के दुत बन कर अल्लाह के हर पेगाम को दुनिया के लोगो तक पहुचाना और उन्हे यह बताना की यह वो रास्ता है जो तुम्हे सच की तरफ ले जायेगा बुराई से बचायेगा इसपे अमल करते रहना तुम कामयाब हो जाओगे हर ईमतिहान में , तुममे से जो ईमान लाओगे वो मुसलमान कहलायेगा यानि पूरा ईमान

second-kalima
हजरत मोहम्मद को रहमूतुल अालामीन यानि सभी लोगो के लिए रहमत लाने वाला कहा जाता है ना की रहमुतुल मुस्लमिन यानि सिर्फ मुसलमानो के लिए रहमत लाने वाला यही वजह है की हम यह कहते है की हम सब के नबी ना की सिर्फ हमारे नबी क्योकि वो किसी खास जाती धर्म संप्रदाय देश के लोगो के लिए नहीं बल्की पूरी कायनात के लोगो के लिए है

third-kalima
यह हमारी खुशनासीबी है की उन्होंने हमारी दुनिया को चुना वरना खुदा ने तो उनसे पुछा था की बताओ मेरे महबूब तुम्हे किस रूहे ज़मीन पे जाना है यानि किस दुनिया में जाना चाहते हो तो हम सब के नबी ने हमारी दुनिया को चुना और उन्हे पूरी मानव जाती के लिए रहमत ले के भेज दिया गया जो लोग ईमान नहीं लाये उनके लिए नबी पाक ने कहा उन्हे गलत मत कहो उनके धर्म और खुदा को गलत मत कहो तुम बस अपने रब

fouth-kalima

के बताये रास्ते पे चलो जो एक है और हर ऐब से पाक है तुम दूसरो को गलत ना कहो लेकिन अपने खुदा और उसके सच्चे रास्तो और उसके भेजे कलाम यानि उपदेशो की खूब चर्चा करो उन्हे दुसरे लोगो को बताओ क्योकि मेरे बाद यह तुम्हारी ज़िम्मेदारी है की तुम्हारे दुसरे भाई बहन भी सही राह को जाने और उसकी तरफ आये इसके बावजुद अगर वह हक़ की राह पे ना लौटे तो उन्हे कुछ ना कहो अल्लाह बहतर जानता है उनके साथ क्या होना है

fifth-kalima
इस्लाम को दीन ए ईलाही कहा जाता है यानि खुदा का दीन और यही वजह है की उसने हर उस चीज पर पाबन्दियाँ लगा दी ज़िसमे एक छटाख भी मानव जाती के लिए नुक़सान था फिर चाहे  वह शराब हो या नाच गाना हो अंधविश्वास हो या ज़िना (बगैर शादी के किसी से शारीरिक संबंध बनाना) चाहे मूर्ती पूजा हो या अश्लिलता या छुआ छुत या ऊच निच हो इसमे बेहीसाब चिजो और कारनामो पे पाबन्दियाँ लगा दी दुनिया में सबसे ज्यादा प्रतीबंध लगाये गए है इसमें हो सकता है की आपको यह लगे की आपका दम घुंट जायेगा लेकिन जब आप इसे फोलो करने लगेंगे तो खुद बा खुद आप दूसरो से खुद को बहतर पायेंगे

sixth-kalima

अगर मनुष्य को सभी नियमो और प्रतीबंधो से मुक्त कर दिया जाये और उस वक़्त उसे सही दिशा मिल जाये तो वह वली बन सकता है और अगर उसे सही दिशा ना मिले तो वह एक ऐसा वहसी दरिन्दा हो जाता है जो एक पशु से भी गए गुजरा होता है शैतान कही बाहर नहीं हमारे अंदर है जो इंतेजार कर रहा है की कब आप अपने ऊपर लगे प्रतीबंधो को तोड़े और अपनी सीमा लांघ जाये |

All image Credit :- Google

____________________________________________________________________________________________

© 2017 Md Danish Ansari

Advertisements
Uncategorized में प्रकाशित किया गया

5 विचार “Jasne Eid Miladun Nabi&rdquo पर;

  1. बहुत खूब।।।इस धरती पर जितने भी धर्मपरवर्तक आये वे कभी भी उस ऊपरवाले को किसी एक का नही कहा बल्कि वह पूरे कायनात का है निर्भर करता है आप उसे किस नाम से पुकारते हैं।रही बात मूर्ति पूजन की तो वह हम अपनी श्रद्धा और सोच से उनकी छवि बना डालते हैं।ठीक वैसे ही जैसे अपने पूर्वजों का तस्वीर लगा डालते हैं।वह तो अन्तर्यामी है अविनासी,उसे आकार दो तो आकार में हवा,पानी आकाश ,धरती हममें,आपमे सब में है।वह किसी धर्म का मोहताज नही बल्कि हजारों धर्म बनेंगे और मिट जाएंगे उससे।धरती के अलग अलग टुकड़े पर अलग अलग लोग हुए मानवों को सत्य की राह दिखानेवाले निर्भर करता है आप किसे मानते हैं।आप जिसे भी माने सही से माने।अगर कोई इंसान में जानवर में या किसी भी जीव जंतु पत्थर पहाड़ में उस ऊपरवाले को देखता है इसमें हमारे समझ से किसी को कौई ऐतराज नही होना चाहिए।

    Liked by 1 व्यक्ति

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s