Beauty = खूबसुरत

stock-vector-hijab-woman-islam-hijab-481875676

All image credit google

अफज़ल को सबसे कोने वाली सिट मिली वह उस जगह से सब पर एक साथ नज़र रख सकता था मगर दुसरे उस पर नहीं यह भोजनालय बहुत ही अच्छा और साफ सुथरा था
सभी अपने भोजन का आनन्द ले रहे थे और अपने आपसी बात चित में व्यस्त किसी को किसी खास सख्स में कोई दिलचस्पी नहीं थी अब तक तो ऐसा ही था
थोडी देर बाद एक लड़की वहा आयी और सबकी दिलचस्पी बदल गयी वहा कुछ शादी शुदा और कुवारें जोड़े भी थे और मेरी दिलचस्पी इन लोगो में बढ़ने लगी कितनी अजीब बात है की सिर्फ एक लड़की ने उस मुआशरे का पूरा माहोल ही बदल दी
जाहीर सी बात थी अगर ऐसा हुआ है तो वह लड़की काफी खूबसुरत होगी और जाहीर है वह है भी
वो लड़की अपना order लेकर दुसरे कोने वाली सिट पे बैठ गयी जो मेरे काफी करीब थी इतने में अफज़ल मेरे करीब आया और मेरे बाजू में बैठ गया जो अब खाली थी
आते साथ ही कान की पास आ बोला भाई देख तो कितनी खूबसुरतखूबसुरत है यार मैने झट से कह दिया भाई सिर्फ सुरत ही अच्छा है सिरत भी अच्छी होनी चाहिए , यार तू तो हमेशा हर किसी में खोट निकाल देता है , देख भाई अफज़ल बात खोट निकालने की नहीं है बात है पसंद और ना पसंद की तू सिर्फ सुरत देख रहा है जबकी मेरे लिए सिरत भी अच्छी होनी चाहिए वैसे भाई देखने में तो सिरत भी अच्छी ही दिख रही है, अच्छा और भला कैसे , अबे आँख के अंधे तुझे दिखता नहीं क्या देख किस तरह खूबसुरती से उसने हिजाब बांधा है , वो तो मुझे भी दिख रहा है लेकिन इससे यह साफ नहीं होता की उसकी सिरत उसके हुस्न से भी ज्यादा खूबसुरत है , भाई अब तू ऐसे कहेगा तो फिर तू कुवाराँ मरने वाला है
अच्छा और वो भला कैसे , क्योकि हर इंसान में कुछ ना कुछ कमी है , वो तो है लेकिन मैं खूबसुरती की मायने कुछ और देखता हूँ और तुम कुछ और हर इसान एक दुसरे से अलग है उसके बावजुद वो एक भी है
इतने में हम सब का खाना हो गया और मैं उठने लगा थोडी ही देर में वो लड़की भी उठी और इसके साथ वहा बैठे लोगो का दिल जो इतनी देर से उसकी तरफ लपक रहा था धाडाम से लड़ खडा की गीर पड़ा सबकी ऊमीदो पे यकायक किसी ने पानी फेर दिया
जब वो लड़की उठी तो उसके हिजाब का कपडा टेबल की कोने से फंस गया जिससे उसका हीजाब खुल गया
और तब जा कर सब लोगो की दिलचस्पी फिर से बदल गयी
इसकी वजह यह थी की उस लड़की के बाल नहीं थे या थे तो उसने उसे मुडवा दिये होंगे खेर उसकी खूबसुरती से जब यह हिस्सा लोगो को दिखा तो सबका रुख बदल गया
लेकिन मेरी दिलचस्पी अब जाग गयी क्योकि जब यह सब हुआ तो वो ज़रा भी घबराई नहीं और बड़े आराम से उठी और अपना हीजाब लेकर बाहर जाने लगी इतने में एक फ़कीर वहां आ धमका  और उसने उसे कुछ रूपये दिये और बाहर ही से हीजाब बांधते हुए जाने लगी
और तब मेरे मुंह से निकला सुब-हान-अल्लाह क्या कयामत ढ़ाती खूबसुरती पाई है उसने
और बस इतना कहना था की अफज़ल अपना माथा पकड लिया , भाई सच में तुझे कोई नहीं समझ सकता , क्यों मैं कोई गणित का सवाल हूँ ज़िसे लोग समझे
यार तूने देखा नहीं उसके बाल ही नहीं थे , तो क्या हुआ यार , भला बिना बालो वाली लड़की खूबसुरत हद्द है यार एक बार लड़को की बात अलग है लेकिन लड़की नो वे
यही तो फर्क है नजरों का तू बाहर देख रहा था और मैं अंदर देखने की नाकाम कोशिश लेकिन उस एक घटना ने मुझसे उसकी अंदर की खूबसुरती का दीदार करा दिया
एक दिन ऐसा वक़्त भी आयेगा जब तू भी उस खूबसुरती से रू-बा-रू होगा और यकीन जान जब यह होगा तो वह वक़्त सबसे अच्छा वक़्त होगा

यह ऐसा इसलिये है की हमने खूबसुरती का मतलब और उसके मायने उसका पैमाना सेट कर रखा है मर्दो के लिए अलग औरतो के लिए अलग बच्चो के लिए अलग हर किसी के लिए अलग अलग

____________________________________________________________________________________________

© 2017 Md Danish Ansari

Advertisements

5 विचार “Beauty = खूबसुरत&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s