मैं हिंदुस्तान हूँ :- इतिहास और शियासत

मैं हिंदुस्तान हूँ
इतिहास और शियासत

gareeb

कौन कहता है इस्लाम यहाँ तलवारों की जोर पे फैला
मैंने देखा है ख्वाज़ा गरीब नवाज़ को
मुझे अपनी चादर में मोहब्बतों से सहेजते हुए
हजार सौ सालों से ज्यादा शियासत इन्ही  के दहलीज़ की लौंड़ी रही
तुम ही पूछो खुद अपने आप से क्या यही काफी न था
तुममे से ज्यादा लोगो को मुसलमान बनाने के लिए
इस्लाम यहाँ ख्वाज़ा के दामन तले फैला है
न कि ज़िलेइलाही के दरबार से
आज के शियासत दारो ने मेरे खूबसूरत संघर्ष से भरे
इतिहास को
अपनी शियासतदारी की कालिख मुझ पर पोत दी है
ORANGJEB
कैसे कह दिया तुमने शिवाजी महान था और अकबर बुरा
कैसे कह दिया तुमने महाराणा प्रताप महान था औरंगज़ेब बुरा
तुम्हारे शियासतदारो ने तुम्हे इतिहास को देखने के लिए
हिन्दू और मुसलमान का चश्मा जो पहना दिया है
हिन्दू कहता है शिवाजी और महाराणा प्रताप महान थे
मुस्लिम कहता है औरंगज़ेब और अकबर महान थे
PicsArt_07-18-12.49.58
तो मैं हिंदुस्तान पूछता हूँ अगर
शिवाजी अगर हिंदुत्व का नेता था तो उसके बारह सेनाओं के आठ सेनापति मुस्लिम क्यो थे?
अगर अकबर मुसलमानों का नेता था तो हल्दी घाटी में उसकी फौज का सेनापति मानसिंह वहाँ क्यो थे
तुमने कभी औरंगजेब को देखा ही नही
उसके जैसा न्यायवादी मेरे इतिहास में कोई जन्मा ही नही
PicsArt_07-18-12.53.44
उसने मंदिर तोड़वा दिए न्याय के पक्ष में
उसने मस्जिद भी तुड़वा दिए न्याय के पक्ष में
जिसने अपने प्रजा से मिले दौलत का एक सिक्का भी
खुद पर कभी खर्च नही किया उसकी तुलना तुम करते हो
जिसने अपनी पूरी ज़िंदगी एक फ़क़ीर की तरह गुजार दी
वो महान औरंगज़ेब था उसके जैसा कोई नही
मुझे याद है मेरे इतिहास के पन्नो में दर्ज
PicsArt_07-18-12.52.11
एक ही राजा हुआ जिसने अपने धर्म का प्रचार प्रसार किया
वो था महान महाराजा अशोक
उसके सिवा किसी राजा महाराजा ने अपने धर्म
का प्रचार किया न प्रसार
हाँ मैं हिंदुस्तान हूँ
मुझे याद है सभी हिन्दू राजाओं के युद्ध
जितने वाला राजा हारने वाले राजा के कूल देवता को
मंदिर से विस्थापित कर देता
क्या यह धर्म का अपमान था जाहिर है नही
यह उस राजा का अपमान था जो हार गया
ये जीते हुए राजा की उद्घोषणा थी कि मैं अब राजा हूँ
तो बताओ जब उन्होंने मंदिर तोड़े तो धर्म का अपमान नही
राजा का अपमान कहलाया तो
उसने तो  न्याय के पक्ष में रह कर
मंदिर और मस्जिदों को ढहाया
इसके बावजूद औरंगज़ेब का इतिहास कभी न सवंर पाया
क्योकि तुममे से कुछ ने ही मेरे इतिहास के पन्नो पर
कालिख पोत रखी है जिससे भरम पैदा होता है
PicsArt_07-18-01.04.34
याद है जब शिवाजी ने टीपू सुल्तान पे चढ़ाई की
तो हार कर वापस लौटते हुए उन्होंने मंदिर तोड़ दिए जो टीपू ने बनवाया
बाद में सुल्तान ने उसे दुबारा पहले जैसा बनवाया
पर मत भूलो झूट का अंधकार चाहे कितना भी घना हो
सच की एक किरण ही काफी है उसका सीना चिर देने को
हाँ मैं हिंदुस्तान हूँ
हाँ मैं दुनिया की तीन सभ्यताओं और संस्कृतियों का मिलाप हूँ
तुम लड़ते जरूर हो यह कहके के ये धर्म युद्ध है
सच यह है कि यह अधर्म युद्ध है
हाँ मैं हिंदुस्तान हूँ
मैं चाहे जितना भी बयान कर दूँ
फिर भी शब्द खत्म हो जाएंगे फिर भी बयान पूरा न होगा
मैं हिंदुस्तान हूँ
हाँ मैं हिंदुस्तान हूँ
मैं लहू लुहान हूँ
मैं हिंदुस्तान हूँ
____________________________________________________________________________________________
© 2017 Md. Danish Ansari
Advertisements

11 विचार “मैं हिंदुस्तान हूँ :- इतिहास और शियासत&rdquo पर;

    1. shayad apne madhyakalin itihaas karo ko padha jinhone ne kabhi bhi auranjzeb ke sath insaaf nahi kiya aisa kbhi nahi tha ki aurangjeb kisi khas majhab k logo se nafrat karta tha aksar mere hindu bhai mandiro ka sawal khada kar dete hai par wo ye nahi batate ki aurangzeb ne sirf unhi mandiro ko todne ka hukm de dala jaha se lagatar bhrastachar ki khabre aa rahi thi mandiro ke aad me jaha ek taraf usne mandir tode wahi usne hindustan ke bahut se prachin mandiro ko banwane or uske kharche ke liye gaon ke gaon daan me de diye agar aap chahe to aap rajyapal vishwaveraiyya ki likhi hui kitab padh sakte hai unhone apni kitab me bakayda un sabhi mandiro se aurangzeb ke shahi farmaan ki copy bhi print ki hui hai agar apko kuch or janna ho to aap sawal kar sakte hai main koshish karunga ki apke sawalo ke jawab de sakun Gouri ji

      Liked by 1 व्यक्ति

      1. Nahi sir mujhe aur kuch janana nahi hai sir mai apko bata ta chaloon ki maine IHM join karne se pehle BA history 2nd year tak padh chuka tha aur abhi on job hone ke bawjood bhi MA in ancient indian history and archeology kar raha hoon. Kyunki itihas mera sukhiya vishay raha hai. Aur mai apko ye bhi bata ta chaloon ki maine aj tak itni one sided history kisi country ki nahi padhi jitni india ki yaha ke historians ne likhi hai. Agar talwar ke nok ki baat nahi hoti na danish sir to vishwa ke nakse par pakistan , bangladesh aur afghanistan ye 3 mulk nahi dikh rage hote. Nai insafi to bharat ka galt itihas likh kar hui hai par waisa nahi jaisa aap keh rahe.e
        Aur maaf kijiye ga danish ji mai kisi ko thesh nahi pahunchana chahta par apko bata doon aurangjeb jaise dashak ko mahan kehna mere liye to mujhe aur mere jaise kai logon ko jarur thesh pahuncha degi.

        Liked by 2 लोग

      2. apne jo pakistan kaha wo uniform civil court ke mudde ko lekar bana rahi baat afganistan ki to wah bahut pehle hi alag ho chuka tha maine apne is lekh me dharm ko felaye jane ko lekar kaha hai ki islam takvaar ki nok par nahi faila rahi baat aurangjeb ki to main pehle hi yah baat keh chuka hun ki madhyakalin itihaaskaro ne aurangzeb ke sath kabhi insaf hi nahi kiya main ye nahi samajh pata aksar ki log akhir aurangzeb se itna nafrat kyo karte hai main fir se yah puchhna chahunga Gouri ji akhir aap aurangzeb se nafrat kyo karte ho rahi baat naraz hone ki to main un logo me se nahi hun ki agar unki bato se koi sahmat na ho to wo gali galoch ya fir munh fulane lagte hai main santi se sawal sunta bhi hun or uska jawab bhi dene ki apne taraf se puri koshish karta hun

        Like

      3. Aaj angrej ya koyee bideshi aataa hai ham sabhi hindustani unkaa kaise satkaar karte hain jag jaahir hain.waise to sabhi dharmo men ahchchhe log hain aur sabhi dharm thik hai.bharat ne kis mulk par akraman kiya hai.koyee bataaye to sahi. ……………”Agar sau barson se AAm ko jaamun kahaa jaaye phir use kaun aam kahega.Hamare desh ke hi log hajaar barson men apne purvaj ko bhul gaye…..ismen kisi kaa dos nahin. aisaa nahi hai ki 11vi sadi se 19vi sadi ke beech achche log nahin huye saath hi aaj hindustaan matalab saare dharmon ka samagam. kisi ek bhi ek dharm se ham nafrat sapne men bhi nahi soch sakte phir bhi ham 11vi sadi se 19vi sadi me jo hua wo kaise bhul jaayen.

        Liked by 2 लोग

      4. ji beshak madhusudan ji jab mughal aaye to wo ek videshi aakraman kari the lekin fir unhone is desh ko apna liya or isi liye wo hidustani kehlate hai na ki mangole rahi baat aakraman karne ya na karne ki to yah nirbhar karta hai ek vyakti ki khud ki jigyasha or samrajya ko badhane se iska koi uchit sambandh nahi hai dharm jati vavstha se waise apki comment madhusudan ji ulji hui hai samajhne me thodi dikkat ho rahi hai

        Like

  1. gauri ji hame yah nahi bhulna chahiye ki aurangzeb ek badhshah tha or usne apni saltanat ko badhane ke liye jo karna pada usne kiya yahi kam dusre raja bhi karte aaye hai
    aksar log akbar ko jyada pasand karte hai lekin logo ko yah baat pata nahi hai ki akbar ke darbar me or senapation me jitne hindu nahi the usse kahin jyada aurangzeb ke darbar or senapati the agar wah wakai kisi khas tabge ke logo se nafrat karta to wah unhe apne aas paas bhi bhatakne nahi deta

    aurangzeb eklota aisa baadshah hua jiska itihaas puri tarah se saaf nahi hai isi liye apko us par likhi hui bahut sari kitabo me alag alag bate or chize dekhne ko milti hai

    Like

  2. बहुत ही अच्छा लिखा है खूबसूरत सोच के साथ नया अभिव्यक्ति। इसको लिखने के लिए दिमाग में पूरा इतिहास आ गया होगा। बहुत खूब अंसारी जी। ऐसे ही लिखते रहिये। 👍👌👏💐

    Liked by 1 व्यक्ति

  3. देखिए अंसारी जी नयी सोच के लिए या कुछ भी करने के लिए हमेशा दो पक्ष होता है पक्ष और विपक्ष, आलोचक और समालोचक यदि हम सही काम कर रहे हैं जनता को सही आइना दिखा रहे हैं तो हमेशा सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए। वैसे मै ज्यादा इतिहास नहीं पढी थी इसलिए मेरे नजर में भी औरंगजेब की छवि मेरे नजर में भी अच्छी नहीं है लेकिन आपकी जानकारी के अनुसार तर्क मुझे अच्छा लगा।

    Liked by 1 व्यक्ति

    1. ji sukriya Rajni ji Asal me bahut kam log hi Aurangzeb ke bare me jante hai kyoki uske bare me bahut kam likha gaya or jo madhyakaal ke itihaas karo ne likha bhi to sirf use badnaam kar diya agar apko Aurangzeb ke bare me kuch or janna ho to vishwaraiyya ji ki kitaab padh sakti hai vishwaraiyya ji bhi pehle aurangzeb ko bahut bura badshah mante the baad me jab unhe apne hi karyakaal me kashi se ek Aurangzeb ka shahi farmaan mila to wo dang reh gaye ki jo aurangzeb madir todne ke liye itna badnaam hai wah bhala mandiro ko daan or suraksha muhaiyya kar raha yahi se unki kahani ki suruaat hai

      Like

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s