कुछ अनकही बाते…….

उससे बाते करने को आज बहुत दिल चाहा इस लिए अपनी मजबूरियों को समेटते हुए अपनी ख्वाहिशात को यहाँ लिख डाला इस उम्मीद में के वो पढ़ ले और इसका जवाब मेरे ख्वाबो में आ कर दे दे।

Advertisements

मेरा अक्श…….

Mera Aqsh

अगर आप को शायरी पसंद है तो हमारे ब्लॉग पर अपने ईमेल से रजिस्टर्ड हो और हर नई पोस्ट की नोटिफिकेशन आपको भेज दी जाएगी !

बारिश 6…….

कौन कहता है के क़यामत में अभी देर है ये मंज़र देख लो क्या ये क़यामत से कम है नही रुकता ही नही सैलाब इन आँखों का एक तूफान जो कैद था जो जज्बातों का

बारिश 4…….

समय बीतता गया हमारी अच्छी दोस्ती हो गयी मैं उससे काफी प्रभावित हुआ मुझे महसूस हो गया था कि मैं उसकी तरफ आकर्षित हो रहा हूँ। जो सही नही था आखिर हम दोस्त है वो मेरे बारे में भला तब क्या सोचेगी जब उसे पता चलेगा कि मैं उसकी तरफ आकर्षित हो रहा हूँ वो … पढ़ना जारी रखें बारिश 4…….

बारिश 3…….

महीने का आखरी दिन अक्सर ऑफिस में काम का दबाव ज्यादा हो जाता है घर भी देर से जा पाता हूँ। आज भी वही हुआ काफी देर रात तक काम करता रहा रात के बारह बज चुके थे। अपना सारा काम खत्म करने के बाद मैं करीब 12:30 पर ऑफिस से निकला घर पहुचते एक … पढ़ना जारी रखें बारिश 3…….

बारिश 2…….

अजीब बात है आज रात भर मुझे नींद नही आई बस करवटे बदलता रहा सुबह हो गयी तब जा कर मुझे नींद आयी। आई भी तो घर वालो ने जगा दिया जल्दी से तैयार हो कर ऑफिस आ गया ऑफिस के काम का ओवरडोज़ और नींद न आने के लौवरडोज़ दोनों मिलकर मुझे पूरे दिन … पढ़ना जारी रखें बारिश 2…….

ओ मेरे……. हमसफर…….

ओ मेरे....... हमसफर....... तेरे आने से कुछ तो हुआ है असर तेरा यूँ आना मुझे सताना और छुप जाना क्या कहूँ हाहाहा ह्म्म्म सपनों में आना नींद चुराना और छुप जाना क्या कहूँ मेरा क्या होगा सोचो तो जरा..... यूँ नज़रो से न दिल चुराया कीजिये खुद को ही आइने में देख के हम, कुछ … पढ़ना जारी रखें ओ मेरे……. हमसफर…….

बारिश………

मैंने उसे पहली दफा तब देखा जब मैं खिड़की से बाहर झाक कर बारिश का मज़ा ले रहा था। जम की बारिश हो रही थी हांथ में किताब लिए वो बस दौड़ी आयी हमारे घर के अहाते में बाहर दरवाजे पे वो खड़े होकर कर खुद को सहजने की कोशिश कर रही थी। मैं बस … पढ़ना जारी रखें बारिश………