कमीने दोस्त…….

 images (4)
दोस्त तु मेरी ज़िंदगी का अहम हिस्सा है
तुम्हारी दोस्ती मेरी ज़िंदगी की जरूरत है
हर एक पल खासमखास यहाँ है
जो तुम साथ हो तो ज़िंदगी खुशनुमा है
जो बात मैं रिस्तेदारो से नही कह सका कभी
वो हर बात तुम्हारे सामने मैंने रखा है
तुम ही जानते हो मेरी ज़िंदगी के हर राज़
और इन राज़ को हमेशा राज़ रखना है
तुम्हे पता है मेरी पहली मुहब्बत
और फिर दिल टूट जाने का गम
तुमने मुझे दिलाशा दिया है
तुमने मुझे विश्वास दिया है
मुझे याद है कि कैसे हमने सब की नज़रो से छुप के
एक ही सिगरेट के न जाने कितने ही बार कश लगाए
एग्जाम पास करने की खुशी हो या हो कोई और
तुम जाम छलकाते और में सिर्फ चखनो का मज़ा लेता
हर बार तुम मुझसे पूछते और मैं मना कर देता
तुम हर बार यह कहते इस्लाम मे तो बहुत कुछ मना
वजह धर्म नही मैं खुद था
जो खुद को उसे लबो से लगाने से रोकता था
कई मौकों पर मुझे भी लगा इसे लबो से लगा के देखूं
पर दिल ने हर बार कहा इसका सहारा मत लेना
मैं हमेशा सोचता हूँ सिगरेट जो मेरे लब से लगी तो आज तक न छूटी
जो जाम को लब से लगाता तो मेरा अंजाम क्या होता
तुम कमीने दोस्त हो पर सच कहूँ तो मेरे दिल करीब हो
क्लास से बंक मार के गुल हो जाते पकड़े जाने पर तुम मुझे फसाते
कुटाई मेरी होती और तुम मजे लिए जाते
जो रूठ के अलग टेबल पे जा बैठा सुकून से
तुम साले कमीने वहा भी आ के खलबली मचा जाते
असली ज़िंदगी तो तुम्हारे ही साथ जिये दोस्तो
पता नही इस भाग दौड़ महफ़िल में कहाँ आ फंसे
जेबो में रुपए कम होती थी हमारी पर
खुशियां बेसुमार हुआ करती थी
आज जेब रुपयों से भरा हुआ है फिर भी
ये दिल खुशियों के लिए तरसता है
दोस्त तु मेरी ज़िंदगी का अहम हिस्सा है
तुम्हारी दोस्ती मेरी ज़िंदगी की जरूरत है
images (1) (1)
_____________________________________________________________________________________________________________________________________________
Dedicated Our beautifull & Lovey Friends
Md. Danish Ansari
Advertisements

5 विचार “कमीने दोस्त…….&rdquo पर;

  1. बहुत ही अच्छा लिखा है आपने। सच्ची दोस्ती का रंग रूप और एहसास ही कुछ अलग होताहै। चाहे वह सफर का चार घंटे का ही क्यों न हो तो महीने सालों की दोस्ती के रंगों के अनुभव की बात ही। निराली होती होगी। अब तो फेसबुक का जमाना आ गया है जब चाहे ब्लाक जब चाहे अनफालो। आज दोस्ती पर कुछ लिखती हूँ – इस रंग बदलती दुनिया में न त्याग रहा न दोस्त रहा। बस टाइम्स पास के खातिर ही फेसबुक बुक बना और जाने कितने साइड बना। अलग-अलग अकाउंट से दिन रात दोस्ती छली जाती है है। चेहरे से ही पहचान नहीं कौन कहां और कसा है। पहले की दोस्ती अच्छी थी। चंद घंटों के सफर में ही पता पार्टी जाते थे।

    Liked by 1 व्यक्ति

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s