तेरी याद……

ख्यालो का क्या है आते है चले जाते है,
इलाज तो यादों का होना चाहिए
IMG_20170315_165812
कोई ईलाज नही उनकी यादों का
जब जी चाहे मुझ पर हावी हो जाते है
जो तन्हाई में होता हूँ मैं कभी
जो उनकी याद आये तो हम मुस्कुराते है
सबको आंसू तो दिखा नही सकते अपने
झूटी ही सही चेहरे पे एक मुस्कान लाते है
IMG_20170316_235752
निकाल लाया हूँ एक पिंजरे से इक परिंदा…
अब इस परिंदे के दिल से पिंजरा निकालना है..
तेरी___यादे….
IMG_20170315_164137
*आया ही था खयाल कि आँखें छलक पड़ीं,*
*आँसू किसी की याद के कितने करीब हैं।*
IMG_20170320_140936
भुला दिया तेरा रेज़ा रेज़ा ख्याल मैंने
बिखर गयी तेरे दर्द की कायनात आखिर
IMG_20170320_140709
कैसे आज़ाद कर दूँ मैं इस परिंदे को पिंजरे से
अब बस यही बचा है उसके वजूद का मेरे पास
IMG_20170317_154252
तेरे पास से जो गुज़रे तो होश मे कहां थे
थोड़ी दूर जा के सम्भले तुझे याद कर के रोए ।
IMG_20170315_165941
जो करीब न होता वो मेरे दिल के पास
तो ये आँसू यूही नही छलक पड़ते आज
e85a6ccf12dd71f36521d44a72e36c05
चश्म-ए-नम तेरी याद और बारिश
गोया इक बारिश के साथ इक और बारिश
IMG_20170321_010716
इश्क़ भी हो.. सुकून भी मिले,
खुदा ने ये सहूलियत.. बनायी ही नही
IMG_20170316_160336
इश्क़ भी कहाँ मरता है पूरी तरह,
आधा तुझमें आधा मुझमें जिया करता है…
IMG_20170315_165720
ये “शायरी” भी “दिल” बहलाने का एक “तरीका” है साहब,
जिसे हम “पा” नहीं सकते उसे “अल्फ़ाज़ों” में जी लेते हैं…
IMG_20170315_164217
वो तो रो के जी अपना हल्का कर लेते है
हमसे पूछो के क्या गुजरती है हम पर
तड़प के रह जाता है दिल हमारा
वो आँसू तेज़ाब से लगते है मेरे दिल पर
images (2)
वक्त और हालात ने ऐसा बना दिया है….
किसी के ल़फ्ज चुभते है तो किसी की खामोशी …
IMG_20170315_163930
बारिश के कई मौसम आये और गए मेरी जिंदगी में सनम लेकिन
मैं अब भी भीग रहा हूँ उसी बारिश में जहाँ तुम मुझे छोड़ गए
IMG_20170320_141029
जख्म दे कर ना पूछा करो, दर्द की शिद्दत,
दर्द तो दर्द होता हैं, थोड़ा क्या, ज्यादा क्या !!
 IMG_20170410_233130[1]
मेरी ख़ामोशी तुम्हे चुभती है कह तो दिया तुमने बड़ी आसानी से
कभी सोचा है मेरे बारे में के तुम्हारे लफ्ज़ मुझ पर रोज़ क़यामत ढाती है
IMG_20170315_163731
मुझे शौक नही तुम्हे जख्म देने का मगर
जो मुझसे मुहब्बत करना है तो हर दर्द सहना होगा
मैं वो समा हूँ जो महफिले तो रोशन करती है मगर
मेरी तकलीफ न तो महफिले जानती है और न परवाना समझता है
IMG_20170315_162836
हाल पूछा तो रो पड़ा फ़ौरन…
दिल की हाज़िर जवाबी क्या कहिए…
IMG_20170315_163705
सबब मेरी उदासी का वो पूंछें तो उनसे कहना
तुम याद आते हो सब्र की हद से कहीं बढ़कर
IMG_20170315_163919
अपने साए से चौंक जाते हैं…
उम्र गुज़री है इस क़दर तन्हा…
Teri___yaad
IMG_20170315_163634
मुझे पता है तेरी उदासियों का सबब
दुआ है तेरे सब्र का बांध टूटने न पाए
IMG_20170315_163625
मजा आता अगर गुजरी हुई बातों का अफसाना,
कहीं से तुम बयाँ करते, कहीं से हम बयाँ करते …..
images (1)
मेरे साए और मुझ में कोई फर्क नही रहा अब
तेरी यादों ने मुझे इस क़दर बाँहों में भर रखा है
images
ये मुहब्बत है मेरी की धोके में जिए जाते है
मेरी बेपनाह मुहब्बत का वो मज़ा लिए जाते है
बंद पिंजरों में देखा है मैंने अक्सर
सिसकियों के बीच अक्सर मुहब्बत दम तोड़ जाती है
उसकी तहजीब की भी मैं क्या मिशाल दूँ
जो दुपट्टा न रखे मेरे जीते जी
आज मेरी मौत पे घर सर ढक के आते है
मुसलसल एहसास रहा इस बात पर
जब उसके किरदार बदलते है तो मेरे अल्फ़ाज़ चुप हो जाते है
images (2)
दो कश मोहब्बत के और,
ज़िन्दगी धुआँ धुआँ हो गई
IMG_20170313_222043
_______________________________________________________________________________________________
जब दोस्तों के साथ होते है तो सच कहते है अपने दर्द से हम कलाम होते है
ये जो दर्द का दरिया है पता ही नही चलता हमें कब कहा ले जाते  है
बस उसकी लहरों में गोते लगता हुआ जो बहता हुआ
बस कुछ दोस्तों का है यहाँ आश्रा !!!
इस शायराना महफ़िल के लिए तहेदिल से हम हमेशा की तरह Muzaffar Imraan Qureshi का और इस बार एक नए शायर की शायरी हम यहाँ पेश कर रहे है उनका नाम है Gajraj Raahi हम उनका भी तहेदिल से सुक्रिया अदा करते है !!
_____________________________________________
Md. Danish Ansari
Advertisements

13 विचार “तेरी याद……&rdquo पर;

      1. बहुत बहुत धन्यवाद जो आपने मेरी बात को माना इतना तो अपने बच्चे भी नहीं सुनते जितना आपने मेरी बातो को बिना कोई बहस के मान लिए। आज मेरा ब्लॉग पर आना धन्य हो गया जो बटे के रूप में आप जैसा इंसान से लेखनी के माध्यम से मुझे आप जैसा बेटा मिल गया। कल आप के शब्दों के वजह से आंखों में बरसात की झड़ी थी और आज खुशी से मन भर उठा है कि व्यक्त करने के शब्द ही नहीं बस महसूस कर सकती हूँ। एक बार फिर मां की दुआ के साथ, आशिर्वाद के साथ धन्यवाद आपको बेटा।

        Liked by 1 व्यक्ति

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s