अलविदा

अलविदा ए जाने वाले अलविदा

तेरे जाने के बाद ये ज़िन्दगी

ज़िन्दगी नही रहेगी

मेरे महबूब अलविदा

PicsArt_03-01-05.38.53.jpg

मेरी एक तरफ़ा मुहब्बत का सलाम लेते जाना

ज़िन्दगी में तेरी बेसुमार खुसिया मिले अलविदा

PicsArt_03-01-05.41.46.jpg

जो कभी तुझ पर मुसीबतों के धुप पड़े तो मैं

खुशियाँ बन कर तुझ पर बरस जाऊंगा

अलविदा ए महबूब ए मुहब्बत अलविदा

PicsArt_03-01-05.46.38.jpg

क्या फर्क पड़ता है के तू मेरे साथ नही

तेरी यादें है बेसुमार

खूब लडवाता हूँ मैं खुद से खुद को

जो तन्हाई में तेरी याद आये अलविदा

PicsArt_03-01-05.50.34.jpg

क्या समझ रखा है तूने मुझको

जब तेरा दिल चाहे मुझ पे आता है

और फ़क़त तू ही मुझसे मुझको खूब

लडवाता है

अलविदा ए जाने मुहब्बत अलविदा

PicsArt_03-01-05.54.23.jpg

ऐसा नही है की तू मेरे साथ न होगी

ऐसा भी नही है के मैं तुझे भुला दूँ

बस तुझसे अभी जुड़ना नही चाहता

बड़ी तकलीफ देह है तेरी यादें अलविदा

PicsArt_03-01-05.58.24.jpg

मैं तेरे लिए सिर्फ एक दोस्त था

और तू मेरे लिए मेरी मुहब्बत

ए जान से प्यारी मेरी हंसीं

तुझे मुहब्बतों के साथ अलविदा

PicsArt_03-01-06.15.31.jpg

हरगिज़ न समझ लेना मुझे तकलीफ नही

के मेरा दिल अब पत्थर सा सख्त है

लेकिन यह जरुरी है मेरे महबूब तेरे

खुशियों की खातिर

मुझसे दूर हो जाना और तुझे अलविदा

PicsArt_03-01-06.24.35.jpg

जब तलक इस जिस्म में रूह का एक

कतरा भी बाकि निशा होगा

तब तलक तुझसे बेहिसबो किताब

मोहब्बत का मुझमे सिलसिला होगा

अलविदा ए जाने मुहब्बत अलविदा

PicsArt_03-01-06.30.17.jpg

मेरे साथ जो तुमने सफ़र किया अब तलक

हर सफ़र की हर याद को अलविदा

अलविदा मुझमे रहे हर एक तेरे वजूद को

अलविदा ए जाने मुहब्बत अलविदा

picsart_03-01-06-36-43

तेरे लब जो कभी छू गए थे मुझे

उन लबो की गर्माहट को अलविदा

मेरे लब से तेरे लब की हर गर्माहट को अलविदा

अलविदा ए जाने हंसीं अलविदा

PicsArt_03-01-06.45.56.jpg

काश मैं उन सभी बीते पालो को वापस ला पता

पर अफ़सोस बिता वक़्त वापस नही आता

ए वक़्त के हसीं पलो को अलविदा

अलविदा ए जाने हसीं अलविदा

PicsArt_03-01-06.51.05.jpg

अगर तेरी इजाजत जो होती तो तेरे रूह

तलक में उतर जाते

मगर हर बार अपनी दोस्ती की हदे

नज़र आई

अलविदा ए जाने तमन्ना अलविदा

PicsArt_03-01-07.08.54.jpg

उधर तेरे हांथो पे हिना रंग लाती रही

इधर मेरा लहू पानी बनता रहा

जो सुबह हुई तो पता चला

वो मेरा जिगर ए लहू था जो तेरे हांथो पर

रचता रहा

PicsArt_03-02-03.53.33.jpg

तेरे पैरो से लिपट कर जो हिना रोई

तो सुबह तलक उसके आंसू रंग ले आये

शायद मुझमे ही कही कोई कमी थी

जो मेरी मुहब्बत तुझ पर रंग न लाये

picsart_03-02-04-03-36

क्या देखना चाहती हो अपनी हांथो में रची

हिना में

मुझे मिटा कर मेरे वजूद को उसमे तलाश

न कर

PicsArt_03-02-04.12.11.png

तुम सोचती होगी के तेरे मेहँदी के रस्म में

हम तुम्हारे महफ़िल में नज़र क्यों न आये

तो ये बता दूँ तुझे मैं, कफा नही तुझसे

गुस्सा हूँ खुद पे और अपनी किस्मत पे

PicsArt_03-02-04.30.35.jpg

न सोचना के मुहब्बत ख़त्म हो गयी तुमसे

इसलिए तेरी महफ़िल में आया हूँ

सच तो यह है आशिक को कैद करके

दोस्त को छुड़ा वापस लाया हूँ

PicsArt_03-02-04.37.06.jpg

तू सोच भी नही सकती क्या गुजरी मेरे दिल पे उस वक़्त

जब उसके हांथो में तेरा हाँथ लिए देखा

खुद को खाक कर डालता उसी कुंड में

अगर तेरी दोस्ती का ख्याल न होता

अलविदा ए मुहब्बत अलविदा

PicsArt_03-02-07.45.37.jpg

जो बंधन बांधना चाहता था तेरे साथ मैं

अपने प्रेम का

वो बंधन आज मैंने तेरा किसी और के

साथ देखा

अलविदा ए हंसीं दुल्हन अलविदा

PicsArt_03-02-07.50.16.jpg

जो बाँहों के हार हमेशा मुझ पर ही लिपटे

आज वो हार टूट गया

फूल की माला जो तुमने उसे अर्पण की

मुझसे तुम्हारा साथ छुट गया

अलविदा हसीं ख्वाब अलविदा

PicsArt_03-03-07.47.49.jpg

पीछे मुड के न देख मेरे दोस्त मुझे डर है

कहीं तेरा आशिक मुझसे आज़ाद न हो जाये

सलामत रहे तू खुश रहे तू बस इतनी ही दुआ है मेरी

अलविदा……………………..अलविदा

PicsArt_03-03-09.55.01.jpg

 

Advertisements

8 विचार “अलविदा&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s